Ugate Hue Sooraj Kee Lalimay - उगते हुए सूरज की ललिमय - Full Poetry - My Alfaaz

Latest

Artikel Terbaru

Thursday, September 24, 2020

Ugate Hue Sooraj Kee Lalimay - उगते हुए सूरज की ललिमय - Full Poetry

Ugate Hue Sooraj Kee - उगते हुए सूरज की..!! - Full Poetry


Ugate Hue Sooraj Kee Lalimay - उगते हुए सूरज की ललिमय  - Full Poetry


 उगते हुए सूरज की ललिमय सा-
सुन्दर चेहरा,
उस पर चाँद की चांदनी सी-
मुस्कुराहट का पहरा !!
नील गगन हैं तेरे विशाल नयन,
पंक्षी कि तरहा मैं इनमे-
खो जाऊ ,
सुरत तेरी देख कर मैं-
पागल दीवाना,
सूदबुद अपनी खो जाऊ !!
तेरी इस सुन्दर, अनुपम मूरत को-
मैं दिल में बसाये रखता हूँ,
और चाँदनी सी प्यारी मुस्कुराहट को-
मैं अपने दिल का खुदा कहता हूँ !!
सबनमी होंठो की शोलो सी गर्मी,
छुवन जैसे गुलाब की पंखुड़ियों-
की नरमी !!
जुल्फ़े तेरी जैसे सावन की-
घटाओ का घेरा,
गालों पर लचकती जुल्फों का-
पहरा !!
जब तुम हंसती हो तो घटाये-
झूम – झूम बरसती हैं,
तेरे चलने की आहट से-
हवाओं को गति मिलती हैं !!
मैं तेरी यादों की बारिश में-
खुद को भिगोये रखता हूँ,
और तेरी यादों के आलम को-
अपने दिल का खुदा कहता हूँ !!
धरती पर गुल जैसे तेरी सुन्दरता-
से खिले हो,
फूलो की कोमल पंखुड़िया-
तेरी मुस्कुराहट से खुली हों,
लताओं को लचकने की-
अदा तेरी लचकती कमर-
से मिली हों !!
मैं तेरी अदाओं को अपने-
लब्जों में बयाँ नहीं कर पाता हूँ !!
और तेरी इन अदाओं को,
अपने दिल का खुदा कहता हूँ !!
मंद – मंद हवा के झोको से-
तेरे आंचल का उड़ना,
जैसे घटाओ का चाँद को छुपाना !!
शर्माती हुई पलकों से-
तेरी नजर का झुकना ,
जैसे बेताब सूरज का संध्या-
से मिलना !!
तुम्हे देखकर लगता हैं, जैसे-
तुम खुदा की कोई दिलकश रचना हों,
और तुम मेरे दिल में धड़कन और
रगो में लहू की तरह बहते हों
मैं तेरे शर्माते चेहरे को-
अपने दिल में बसाये रखता हूँ,
और तेरी मासूमियत को अपने-
दिल का खुदा कहता हूँ !!
मेरे दिल ने हर धड़कन में-
बस तेरा ही नाम लिया हैं,
मैंने अपने हर खुदा की मूरत में-
बस तेरा ही दिदार किया हैं !!
मैं तो हर वक्त बस तेरी ही-
आँखों के जादू में खोया रहता हु,
अगर तू देखे झाक के तेरी आँखों-
में तो मैं वही बैठा अपनी-
गजलें लिखा करता हूँ !!
मैं तेरी इन समन्दर सी आँखों
में अपने दिल को खोता जाता हूँ,
और तेरी आँखों में बसी मेरी-
मोहब्बत को अपने दिल का खुदा कहता हु !!
मंदिर में बजते शंख के नाद सी,
तेरी मधुर, शांत आवाज हैं !!
चर्च में जलती मोमबत्ती सी-
प्रकाशमान तेरी मुस्कान हैं !!
मस्जिद में जलती धुप की-
खुश्बू सा तेरा अहसास हैं !!
तेरे मन कि सुन्दरता मुझे तेरी-
ओर खिची ले आती हैं !!
मेरी रूह अपनी सारी खुशियाँ-
तेरी चोखट पर पाती हैं !!
मैं तेरे मन की सच्चाई को –
अपने दिल में बसाये रखता हूँ,
और तेरी मन की सुन्दरता को-
अपने दिल का खुदा कहता हूँ...!!!

Ugate Hue Sooraj Kee Lalimay Sa-
Sundar Chehara,
Us Par Chaand Kee Chaandanee See-
Muskuraahat Ka Pahara !!
Neel Gagan Hain Tere Vishaal Nayan,
Pankshee Ki Taraha Main Iname-
Kho Jaoo ,
Surat Teree Dekh Kar Main-
Paagal Deevaana,
Soodabud Apanee Kho Jaoo !!
Teree Is Sundar, Anupam Moorat Ko-
Main Dil Mein Basaaye Rakhata Hoon,
Aur Chaandanee See Pyaaree Muskuraahat Ko-
Main Apane Dil Ka Khuda Kahata Hoon !!
Sabanamee Hontho Kee Sholo See Garmee,
Chhuvan Jaise Gulaab Kee Pankhudiyon-
Kee Naramee !!
Julfe Teree Jaise Saavan Kee-
Ghatao Ka Ghera,
Gaalon Par Lachakatee Julphon Ka-
Pahara !!
Jab Tum Hansatee Ho To Ghataaye-
Jhoom – Jhoom Barasatee Hain,
Tere Chalane Kee Aahat Se-
Havaon Ko Gati Milatee Hain !!
Main Teree Yaadon Kee Baarish Mein-
Khud Ko Bhigoye Rakhata Hoon,
Aur Teree Yaadon Ke Aalam Ko-
Apane Dil Ka Khuda Kahata Hoon !!
Dharatee Par Gul Jaise Teree Sundarata-
Se Khile Ho,
Phoolo Kee Komal Pankhudiya-
Teree Muskuraahat Se Khulee Hon,
Lataon Ko Lachakane Kee-
Ada Teree Lachakatee Kamar-
Se Milee Hon !!
Main Teree Adaon Ko Apane-
Labjon Mein Bayaan Nahi Kar Paata Hoon !!
Aur Teree In Adaon Ko,
Apane Dil Ka Khuda Kahata Hoon !!
Mand – Mand Hava Ke Jhoko Se-
Tere Aanchal Ka Udana,
Jaise Ghatao Ka Chaand Ko Chhupaana !!
Sharmaatee Huee Palakon Se-
Teree Najar Ka Jhukana ,
Jaise Betaab Sooraj Ka Sandhya-
Se Milana !!
Tumhe Dekhakar Lagata Hain, Jaise-
Tum Khuda Kee Koee Dilakash Rachana Hon,
Aur Tum Mere Dil Mein Dhadakan Aur
Rago Mein Lahoo Kee Tarah Bahate Hon
Main Tere Sharmaate Chehare Ko-
Apane Dil Mein Basaaye Rakhata Hoon,
Aur Teree Maasoomiyat Ko Apane-
Dil Ka Khuda Kahata Hoon !!
Mere Dil Ne Har Dhadakan Mein-
Bas Tera Hee Naam Liya Hain,
Mainne Apane Har Khuda Kee Moorat Mein-
Bas Tera Hee Didaar Kiya Hain !!
Main To Har Vakt Bas Teree Hee-
Aankhon Ke Jaadoo Mein Khoya Rahata Hu,
Agar Too Dekhe Jhaak Ke Teree Aankhon-
Mein To Main Vahee Baitha Apanee-
Gajalen Likha Karata Hoon !!
Main Teree In Samandar See Aankhon
Mein Apane Dil Ko Khota Jaata Hoon,
Aur Teree Aankhon Mein Basee Meree-
Mohabbat Ko Apane Dil Ka Khuda Kahata Hu !!
Mandir Mein Bajate Shankh Ke Naad See,
Teree Madhur, Shaant Aavaaj Hain !!
Charch Mein Jalatee Momabattee See-
Prakaashamaan Teree Muskaan Hain !!
Masjid Mein Jalatee Dhup Kee-
Khushboo Sa Tera Ahasaas Hain !!
Tere Man Ki Sundarata Mujhe Teree-
Or Khichee Le Aatee Hain !!
Meree Rooh Apanee Saaree Khushiyaan-
Teree Chokhat Par Paatee Hain !!
Main Tere Man Kee Sachchaee Ko –
Apane Dil Mein Basaaye Rakhata Hoon,
Aur Teree Man Kee Sundarata Ko-
Apane Dil Ka Khuda Kahata Hoon...!!!

No comments:

Post a Comment